उमरिया जिले में लगातार गिर रहा है तापमान शीतलहर के प्रकोप से डरे सहमे हैं लोग

Umaria Weather Today: मध्यप्रदेश के उमरिया जिले का तापमान लगातार गिरता हुआ साफ तौर पर देखा जा सकता है आज करीबी 11:00 बजने को है लेकिन अभी तक सूर्य भगवान ने दर्शन नहीं दिए हैं। यहां तेज शीतलहर चलती हुई साफ तौर पर देखी जा सकती है लोग थिठुरने को मजबूर हैं।

Umaria Weather Today: वही उमरिया जिले की पाली की माने तो पाली का आज तापमान करीब 9 डिग्री सेल्सियस रहा लेकिन अभी 11:00 बजे वह तापमान और गिर कर 8 डिग्री सेल्सियस हो गया। यानी जैसे ऐसे दिन ढलता जा रहा है वैसे वैसे शीतलहर का प्रकोप भी तेज होता हुआ देखा जा रहा है। हालांकि अब कलेक्टर के आदेश के बाद स्कूलों को खोल दिया गया है लेकिन अब अगर ऐसे ही ठंडराई तो कलेक्टर को फिर से इस बारे में विचार करना पड़ेगा।

बहरहाल ठंड की वजह से यातायात व्यवस्था बिगड़ गई है क्योंकि सामने कोहरा इतनी तेज है कि सामने दिखाई ही नहीं दे रहा है। इसके अलावा व्यापारियों को खासी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है कोई ग्राहक शहर में आने को नहीं सोच रहा है क्योंकि ठंड भरी ठिठुरन में वह घर के अंदर मे ही घुसा हुआ है।

मैं किसानों की माने तो किसान भी अब परेशान है अरहर की फसल अब ज्यादा ठंड की और कोहरे की वजह से बर्बाद होने लगी है। किसानों को डर सताने लगा है कि कहीं उनकी फसल में पाला ना मार जाए इसलिए वह भी अब चिंता में है।

Umaria Weather Today: वही उमरिया जिले की पाली की माने तो पाली का आज तापमान करीब 9 डिग्री सेल्सियस रहा लेकिन अभी 11:00 बजे वह तापमान और गिर कर 8 डिग्री सेल्सियस हो गया। यानी जैसे ऐसे दिन ढलता जा रहा है वैसे वैसे शीतलहर का प्रकोप भी तेज होता हुआ देखा जा रहा है। हालांकि अब कलेक्टर के आदेश के बाद स्कूलों को खोल दिया गया है लेकिन अब अगर ऐसे ही ठंडराई तो कलेक्टर को फिर से इस बारे में विचार करना पड़ेगा।

बहरहाल ठंड की वजह से यातायात व्यवस्था बिगड़ गई है क्योंकि सामने कोहरा इतनी तेज है कि सामने दिखाई ही नहीं दे रहा है। इसके अलावा व्यापारियों को खासी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है कोई ग्राहक शहर में आने को नहीं सोच रहा है क्योंकि ठंड भरी ठिठुरन में वह घर के अंदर मे ही घुसा हुआ है।

मैं किसानों की माने तो किसान भी अब परेशान है अरहर की फसल अब ज्यादा ठंड की और कोहरे की वजह से बर्बाद होने लगी है। किसानों को डर सताने लगा है कि कहीं उनकी फसल में पाला ना मार जाए इसलिए वह भी अब चिंता में है।

Show Full Article
Next Story
Share it